PCM Full Form | PCM, PCB, PCMB क्या होता है? जानें PCM, PCB, PCMB के बारे में जरुरी बातें

PCM / PCB/ PCMB Full Form in Hindi

नमस्कार दोस्तों the nitin tech.com पर आप सभी का स्वागत है तो दोस्तों आज हम बात करेंगे की PCM का फुल फॉर्म क्या होता है? ( PCM Full Form or PCM Full Form in Hindi )

आप सभी ने सुना ही होगा कि बहुत सारी जगहों पर PCM शब्द का इस्तेमाल होता है। एजुकेशनल टर्म में इसका काफी ज्यादा प्रयोग किया जाता है। जैसे कि अगर आप स्टूडेंट्स है तो आप इंटरमीडिएट किस सब्जेक्ट से कर रहे हैं, PCM या PCB से। बहुत से लोग आपसे पूछ भी सकते हैं कि आप इंटर PCM से कर रहे हैं या PCB से।

कभी- कभी कुछ जॉब निकलती हैं तो वहां पर भी स्पष्ट लिखा होता है कि इस जॉब के लिए सिर्फ PCM स्ट्रीम से 12वीं पास स्टूडेंट्स ही अप्लाई कर सकते हैं। इस तरह से आपको इसकी फुल फॉर्म जरूर ही पता होनी चाहिए। तो चलिये इस बारे मे जान लेते हैं की PCM क्या है? PCM का फुल फॉर्म क्या होता है? ( PCM Full Form or PCM Full Form in Hindi ) और अलग-अलग फील्ड में इसका क्या मतलब होता है।

तो दोस्तों आपको बता दें की एजुकेशन की फील्ड में PCM की फुल फॉर्म Physics, Chemistry, Maths होता है

PCM Full Form

Physics, Chemistry, Math

पीसीएम फुल फॉर्म इन हिंदी : फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स

PCM Physics Chemistry Math

ये तीनो साइंस स्ट्रीम के सब्जेक्ट होते हैं। जो कि बच्चों को शुरू से ही स्कूल में पढ़ाया जाता है। ताकि बच्चों को इन सब्जेक्ट्स का बेसिक ज्ञान हो सके। लेकिन 10th class तक तो Physics, Chemistry और Biology सब्जेक्ट Science की एक ही बुक में शामिल होती है। और जबकि Math एक अलग सब्जेक्ट होता है।

वही जब आप आगे 10th के बाद 11th क्लास में जाते है तो आपके पास कुछ ऑप्शंस होती है। जैसे कि Arts, Commerce, Science, जिनमे की अलग अलग subjects पढ़ने को होते है।

अगर आप इन मे से Science को चुनते है और तो उसमे भी आपको Science के सब्जेक्ट सेलेक्ट करने पड़ते हैं की आप PCM (Physics Chemistry Math) सब्जेक्ट लेंगे या फिर PCB जिसमे आपको Physics Chemistry और Biology सब्जेक्ट्स पढ़ाए जाएंगे।

अगर आगे करियर में आपको इंजीनियरिंग की फील्ड में जाना है तो आपको PCM यानी Physics Chemistry और Math का सब्जेक्ट चुनना चाहिए। वहीं यदि आप आगे करियर में Medical की फील्ड में जाना चाहते हैं तो आपको PCB यानी Physics Chemistry और Biology सब्जेक्ट्स का चयन करना चाहिए।

अगर आप क्लियर नही हैं की आगे करियर में आपको किस फील्ड में जाना है तो आप दोनो का मिलाजुला ऑप्शन PCMB यानी Physics, Chemistry, Math और Biology का ऑप्शन भी चुन सकते है।

इंटर में यदि आप NON Medical यानी PCM ( Physics, Chemistry और Math ) का ऑप्शन चुनते है तो आपको यह ज़रूर मालूम होना चाहिए कि इसमें दूसरे सब्जेक्ट्स के मुकाबले आपको अधिक पढ़ना पड़ता है और मेहनत भी अधिक करनी पड़ती है।

इन्हें भी देखें :-  What is NCC Full Form? NCC का Full Form क्या होता है? जानें NCC के बारे में जरूरी बातें…

इंटरमीडिएट में यह सब्जेक्ट्स पहले की तरह आम नही रह जाते है। बल्कि अब इनमे आपको advance level की चीज़ें पढ़ने को मिलती है। और सभी सब्जेक्ट्स की एक अलग separate book होती है। चूंकि यह subject science से जुड़े होते है तो इनमें technical terms अधिक होते है जिस वजह से आपको शुरू में समझने में परेशानी होती है। लेकिन कुछ समय के बाद आपको सभी चीज़े समझ मे आने लगती है। लेकिन आपको मेहनत करनी पड़ती है।

लेकिन इन सब्जेक्ट्स से इंटर करने के बाद आपको बहुत से प्रकार के career options भी मिलते है और आप अपने interest के हिसाब से किसी भी career में अपना भविष्य बना सकते है।

PCM साइंस स्ट्रीम के सब्जेक्ट है। फिलहाल PCM ग्रुप से 12वीं करने के बाद में इंजीनियरिंग से जुड़े कोर्स किये जा सकते हैं। इन सब्जेक्ट से इंटरमीडिएट करने के बाद में कैंडिडेट्स निम्न कोर्स कर सकते हैं।

PCM (Physics, Chemistry और Math) से 12वीं पास करने के बाद किये जाने वाले कोर्स

  • बीसीए
  • बीएससी केमेस्ट्री
  • बीएससी फिजिक्स
  • बीएससी मैथमेटिक्स
  • बीएससी आईटी
  • बीएससी कंप्यूटर साइंस
  • बीटेक इन कंप्यूटर साइंस
  • डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस
  • बीटेक इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
  • डिप्लोमा इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
  • बीटेक इन सिविल इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन केमिकल इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन केमिकल इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन एनवायरनमेंट इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन इंडिस्ट्रीयल डिजाइनिंग
  • बीटेक इन डेरी टेक्नोलॉजी
  • डिप्लोमा इन डेरी टेक्नोलॉजी
  • डिप्लोमा इन फार्मेसी
  • बीटेक इन एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन आटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन ऑटोमेशन एंड रोबोटिक साइंस
  • बीटेक इन पेट्रोलियम इंजीनियरिंग
  • बीएससी नॉटिकल साइंस
  • बीटेक इन नॉटिकल साइंस
  • डिप्लोमा इन नॉटिकल साइंस
  • डिप्लोमा इन एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन ट्रांस्पोरेशन इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन पावर इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन टेक्सटाईल इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन सेरेमिक इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन सेरेमिक इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन लेदर टेक्नोलॉजी

इनके सिवाय और भी अन्य कोर्स PCM (Physics, Chemistry और Math) ग्रुप के स्टूडेंट्स के लिए होते हैं। लेकिन ऐसा नही है कि PCM ग्रुप के स्टूडेंट्स सिर्फ ग्रुप के ही कोर्स कर सकते हैं। बल्कि PCM (Physics, Chemistry और Math) ग्रुप के स्टूडेंट्स आर्ट्स स्ट्रीम के कोर्स भी कर सकते हैं। जबकि आर्ट्स स्ट्रीम के स्टूडेंट्स PCM ग्रुप के कोर्स नही कर सकते हैं।

तो दोस्तों ऊपर हमने PCM की फुल फॉर्म (PCM Full Form) और उसके बारे में डिटेल में जानकारी दी है। वैसे तो ज्यादातर इस PCM शब्द को Physics, Chemistry और Math (फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स) के शॉर्ट टर्म में यूज किया जाता है।

इसे भी देखें :- DPR Full Form in Hindi | DPR का मतलब क्या होता है?

लेकिन Technical जगत में PCM का एक दूसरा मतलब भी होता है जो कि “Pulse Code Modulation” है

PCM Full Form in Technology / Audio

Pulse Code Modulation

टेक्नोलोजी / ऑडियो की फील्ड में PCM की Full  Form पल्स कोड मॉड्यूलेशन होती है।

Pulse Code Modulation (PCM) क्या होता है?

Pulse Code Modulation (PCM) यह कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के फील्ड में इस्तेमाल होने वाला टर्म है। यह एक ऑडियो कन्वर्टिंग की प्रॉसेस होती है। इस प्रॉसेस में analog signals को digital signals में बदला जाता है।

इन्हें भी देखें :-  What is MLT Full Form? MLT का Full Form क्या होता है? जानें MLT के बारे में जरूरी बातें…

PCM Full Form Pulse Code Modulation

इस Pulse Code Modulation (PCM) टेक्नोलोजी का इस्तेमाल कम्युनिकेशन के फील्ड में अधिक किया जाता है। जैसे में Telephone में, जब आप किसी व्यक्ति से Telephone के जरिए बात करते है तब वह आपके Voice जो कि Analog Signal में मौजूद होता है उसे PCM के जरिए Digital Signal में बदला जाता है।

हालांकि यह टेक्नोलोजी बहुत पुरानी है लेकिन इसका इस्तेमाल आज भी बहुत किया जाता है। लेकिन हो सकता है कि आने वाले भविष्य में कोई नई और इससे बेहतर टेक्नोलोजी आ जाए जो इसे replace कर सके। तो शायद इसका अंत हो जाए लेकिन फिलहाल इसके कई फायदे है। जैसे कि एनालॉग सिग्नल्स के मुकाबले डिजिटल सिग्नल ज्यादा सिक्योर होते है। और wires के मध्यम से आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर travel करके भी जल्दी जाते है।

Pulse Code Modulation (PCM) की प्रॉसेस तीन steps में कार्य करता है वो है

  • Sampling – सैंपलिंग का कार्य निरंतर तरंग संकेत का नमूना करना है। यह नियमित अंतराल पर एक एनालॉग सिग्नल के आयाम को मापता है।
  • Quantization – यह infinite मान Signal को एक सीमित स्तर में बदलने की प्रक्रिया है। Samples के बाद, हमें कई amplitudes के signal Samples की एक श्रृंखला मिलती है। इन samples के आयाम को सीमित करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • Encoding – यह एक specified voltage level के लिए सिर्फ एक binary conversion है।

दोस्तों अगर आप Pulse Code Modulation (PCM) के बारे में और डिटेल में जानना चाहते हैं तो आप दिए गए लिंक पर क्लिक करें

दोस्तों आप ने इस post में जाना कि PCM क्या है? PCM का फुल फॉर्म क्या होता है? (PCM Full Form) और Physics, Chemistry और Math को पढ़ने से आपको क्या फायदे होते है। तथा Physics, Chemistry और Math (PCM) सब्जेक्ट्स को पढ़ कर आप कैसे अपने career में आगे बढ़ सकते है।

दोस्तों आज के समय मे एक अच्छा career चुनना बहुत जरूरी है। ताकि आप अपने जिंदगी को settle कर सके तथा life में आगे बढ़ सके। यदि आप के पास एक अच्छी डिग्री नही है और यदि आप जीवन मे सक्सेसफुल नही हैं तो आपको न ही मान सम्मान मिलता है और न ही कोई आपको महत्व देता है। और यदि आपके पास अच्छी डिग्री है और अच्छा काम है तो आप को सभी लोग महत्व भी देते है और मान सम्मान भी देते है।

इसीलिए आज के समय मे लोग अच्छा career बनाने के लिए Physics, Chemistry और Math (PCM) सब्जेक्ट्स को चुनते है ताकि उनके पास कई कैरियर ऑप्शंस हो और आगे चलकर किसी भी फील्ड में अपना कैरियर बना सके।

Other PCM Full Form

दोस्तों ऊपर दिए गए PCM के Full Form के अलावा भी PCM शब्द के और भी बहुत सारे Full Form हो सकते हैं।

इसलिए यहां पर इस आर्टिकल में हमने PCM टर्म के कुछ और भी Full Form दिए हैं जो आप यहां नीचे देख सकते हैं।

PCM Full Form In Railway – Production Control Manager in Rail Transport

PCM Full Form In Real estate – Per Calendar Month

इन्हें भी देखें :-  What is FRL Full Form? FRL का Full Form क्या होता है? जानें FRL के बारे में जरूरी बातें…

PCM Full Form In Banking – Payments and Cash Management

PCM Full Form In Biology – Pericentriolar Material

PCM full form in Automobiles : Powertrain Control Module

PCM Full Form in Business : Per Calendar Month

FAQ About PCM Full Form :-

Q. What is PCM in 11th class? | 11वीं क्लास में पीसीएम क्या होता है?

Ans : 11th class में Physics, Chemistry, Math इन तीनो विषयों को एक साथ PCM कहा जाता है।

Q. What is PCM in Studies? | पढ़ाई में PCM क्या होता है?

Ans : PCM मतलब Physics, Chemistry और Math. 10वीं पास करने के बाद 11वीं क्लास में आने पर स्टूडेंट्स के पास इन सब्जेक्ट्स को सलेक्ट करने का ऑप्शन मिलता है।

Q. Which is Better PCM or PCB? | PCM या PCB सब्जेक्ट्स में से कौन सा ऑप्शन बेहतर है?

Ans : यदि आप आगे मेडीकल लाइन मे अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो PCB (Physics Chemistry Biology) सब्जेक्ट्स लें। लेकिन यदि आप 12 के बाद इंजीनियरिंग करना चाहते हैं तो PCM (Physics Chemistry Math) सब्जेक्ट्स लें। यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि आप क्या पढ़ना चाहते हैं तो दोनों (PCMB यानी Physics Chemistry Math Biology) के सब्जेक्ट्स लें।

Q. What is PCM in Medical? मेडिकल लाइन में PCM का क्या मतलब होता है?

Ans : मेडिकल लाइन में PCM का मतलब Patient Care Management होता है। Patient Care Management एक प्रणाली होती है जो रोगियों को स्वास्थ्य और बीमारी की निरंतरता में हस्तक्षेप करने के लिए नामांकित या असाइन करती है। इसमें स्वास्थ्य परीक्षण और नियमित जांच, उपयोगिता समीक्षा, घटना फोकस, अल्पकालिक केस प्रबंधन और दीर्घकालिक पुरानी स्थितियों का प्रबंधन शामिल है।

Q. What does PCM stand for Audio? | Audio में PCM का क्या मतलब होता है?

Ans : Audio में PCM का क्या मतलब Pulse Code Modulation (PCM) होता है।

Q. What is PCM wave? PCM तरंग क्या होती है?

Ans : Pulse Code Modulation (PCM) सैम्प्लिंग एनालॉग सिग्नल को डिजिटल रूप से दर्शाने के लिए उपयोग की जाने वाली एक विधि है। … एक पीसीएम स्ट्रीम में, एनालॉग सिग्नल के आयाम को समान अंतराल पर नियमित रूप से नमूना लिया जाता है, और प्रत्येक नमूने को डिजिटल चरणों की एक सीमा के भीतर निकटतम मान पर परिमाणित किया जाता है।

इसे शेयर करें

Leave a Comment