What is OC Full Form? OC का Full Form क्या होता है? जानें OC के बारे में जरूरी बातें…

OC Full Form

दोस्तों क्या आपने कभी OC शब्द सुना है? या क्या आप जानते हैं की OC kya hai? OC ki Full Form क्या होती है?

नमस्कार दोस्तों the nitin tech.com पर आप सभी का स्वागत है। क्या आप भी इंटरनेट पर OC के बारे मे (OC Full Form) ढूंढ रहे है? यदि हाँ तो आज मैं इस आर्टिकल के जरिए आपको OC kya hota hai? OC ka Full Form kya hota hai? के बारे में डिटेल में बताने जा रहा हूँ। इस पोस्ट को पढ़कर आप OC kya hai? (OC Full Form) के बारे में जान सकेंगे।

OC kya hai? (OC Full Form)

तो दोस्तों आपको बता दें कि OC की Full Form Occupancy Certificate ( हिंदी में ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट / अधिभोग प्रमाणपत्र) होता है।

OC Full Form : Occupancy Certificate

OC Full Form in Hindi : ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट / अधिभोग प्रमाणपत्र

OC Full Form : Occupancy Certificate

Occupancy Certificate (OC) क्या होता है?

Occupancy Certificate (OC) एक डॉक्यूमेंट होता है जो किसी बिल्डिंग के निर्माण के अंत में स्थानीय योजना प्राधिकरण या स्थानीय नगर निगम के अधिकारियों द्वारा या निर्माण प्रस्ताव विभाग द्वारा जारी किया जाता है। यह प्रमाणपत्र इस पुष्टि के बाद ही जारी किया जाता है की है कि बिल्डिंग सड़क आदि से दूरी, ऊंचाई, वर्षा जल संचयन प्रणाली, जैसे अन्य निर्माण मानकों को पूरा करती है।

किसी बिल्डिंग के निर्माण के पूरे होने के बाद स्थानीय योजना प्राधिकरण या सरकारी एजेंसियां Occupancy Certificate (OC) जारी करते हैं। यह सर्टिफिकेट इस बात का सबूत है कि प्रोजेक्ट बन चुका है और उसे बनाने के दौरान सभी मानकों, नियमों और बिल्डिंग कोड्स का पालन किया गया है।

बिल्डिंग का निर्माण पूरा करने के बाद यह बिल्डर की जिम्मेदारी होती है कि वह स्थानीय नागरिक निकाय से Occupancy Certificate (OC) हासिल करे। यह सर्टिफिकेट इस बात का प्रमाण होता है बिल्डिंग रहने लायक है। वहीं बिजली, सीवर और पानी का कनेक्शन लेने के दौरान भी Occupancy Certificate (OC) की जरूरत पड़ती है।

Important Facts about Occupancy Certificate (OC) / ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट के बारे में जरूरी जानकारी

  • Occupancy Certificate (OC) यह सुनिश्चित करता है कि प्रॉपर्टी रहने के लिए एक आदर्श स्थिति में है।
  • भवन निर्माण के लिए Occupancy Certificate (OC) के बिना, कर्नाटक जैसे राज्यों में खाता प्रमाणपत्र प्राप्त करना बहुत मुश्किल है।
  • यदि आपके पास Occupancy Certificate (OC) नहीं है, तो भविष्य में अगर आप अपनी संपत्ति बेचना चाहते हैं तो खरीदार ढूंढना मुश्किल हो सकता है।
  • विभिन्न वित्तीय संस्थान होम लोन स्वीकृत करने के लिए Occupancy Certificate (OC) मांगते हैं।
  • Occupancy Certificate (OC) के बिना, आपको बिजली कनेक्शन या सीवर कनेक्शन, या पानी कनेक्शन प्राप्त करने में मुश्किल हो सकती है।
  • एक Occupancy Certificate (OC) के बिना, किसी बिल्डिंग में रहना अवैध माना जाता है और स्थानीय नागरिक निकाय आपसे बिल्डिंग खाली करने के लिए कह सकते हैं।
  • यदि आप अपने होम लोन पर इनकम टैक्स बेनिफिट लेना चाहते हैं तो आपका नियोक्ता आपको होम लोन की डिटेल्स के साथ Occupancy Certificate (OC) जमा करने के लिए कह सकता है।
  • Occupancy Certificate (OC) के द्वारा अपने पास मौजूद प्रॉपर्टी की कानूनी स्थिति को मजबूत करना जरूरी है। प्रॉपर्टी के वैध Occupancy Certificate (OC) के बिना में स्थानीय निकाय संस्था को यह अधिकार है कि वह कानूनी एक्शन ले क्योंकि Occupancy Certificate (OC) न होने की सूरत में उस प्रोजेक्ट को अवैध ढांचा ठहरा दिया जाएगा।
  • अगर आपको Home Loan के लिए अप्लाई करना है या यदि आप कोई रीसेल प्रॉपर्टी खरीद रहे हैं तो भी आपको Occupancy Certificate (OC) की जरूरत पड़ेगी। अगर आप प्रॉपर्टी बेचना चाहते हैं, तब भी आपको वैध Occupancy Certificate (OC) की जरूरत पड़ेगी।
इन्हें भी देखें :-  What is NAAC Full Form? NAAC का Full Form क्या होता है? जानें NAAC के बारे में जरूरी बातें…

How To Get A Occupancy Certificate (OC)? / ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट कैसे प्राप्त करें?

Occupancy Certificate (OC) भवन स्वामी को भवन के अंदर रहने के लिए अधिकृत करता है। यदि किसी बिल्डिंग का Occupancy Certificate (OC) नहीं है, तो इसका अर्थ है कि उस बिल्डिंग का निर्माण स्वीकृत योजना के अनुसार नहीं किया गया है या उस बिल्डिंग के निर्माण के दौरान जरूरी नियमों का पालन नहीं किया गया है। इसलिए भवन की Occupancy Certificate (OC) लेना जरूरी है। यदि आप जानना चाहते हैं कि Occupancy Certificate (OC) कैसे प्राप्त करें, इस बारे में आप नीचे डिटेल्स देख सकते हैं :

आदर्श रूप से, डेवेलपर को प्रोजेक्ट पूरा होने के 30 दिनों के भीतर Occupancy Certificate (OC) के लिए अप्लाई कर देना चाहिए. बतौर प्रॉपर्टी मालिक, आप लोकल कॉरपोरेशन या म्युनिसिपालिटी के दफ्तर में जाकर भी Occupancy Certificate के लिए अप्लाई कर सकते हैं. अगर मंजूरी के लिए प्रोजेक्ट ने सारे मानदंडों को पूरा किया है तो आपको एप्लिकेशन भरने के 30 दिनों के भीतर Occupancy Certificate की कॉपी मिल जाएगी। नीचे उन डॉक्यूमेंट्स की लिस्ट दी हुई है, जिन्हें आपको एप्लिकेशन के साथ सब्मिट कराना होता है :

  • बिल्डिंग के लिए मंजूर की गई योजना की कॉपी
  • Rainwater Harvesting और solar panel की फोटो
  • पूरे बिल्डिंग की फोटो
  • टैक्स एसिसमेंट और टैक्स पेमेंट्स की रसीद
  • बिल्डिंग के फ्लोर एरिया की कैलकुलेशन शीट (एक आर्किटेक्ट के सिग्नेचर होने चाहिए)
  • फायर और पॉल्यूशन डिपार्टमेंट की एनओसी
  • प्रोजेक्ट, साइट और हाईट का योजना के अनुसार होने का प्रूफ
  • प्रोजेक्ट के शुरू होने का सर्टिफिकेट
  • प्रोजेक्ट के पूरे होने का सर्टिफिकेट

फार्म सबमिशन के बाद, संबंधित अधिकारी निरीक्षण के लिए बिल्डिंग का दौरा करेंगे और जांच करेंगे कि क्या भवन स्वीकृत योजना के अनुसार बनाया गया है। इसके बाद वे ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट जारी करेंगे।

यदि आप ऑनलाइन ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप अपने राज्य के नगर निगम की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ऐसा कर सकते हैं।

तो दोस्तों ऊपर ऑर्टिकल में हमने आपको OC का फुल फॉर्म (OC Full Form) Occupancy Certificate के बारे में जानकारी दी है।

दोस्तों बिल्डिंग निर्माण में एक और भी सर्टिफिकेट होता है Completion Certificate (कंप्लीशन सर्टिफिकेट)। कई बार ऐसा भी होता है की बिल्डर्स कंप्लीशन सर्टिफिकेट को ही ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट बताकर दे देते हैं जबकि ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट और कंप्लीशन सर्टिफिकेट दोनो अलग अलग होते है। ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट और कंप्लीशन सर्टिफिकेट के बीच में क्या फर्क होता है यह हमने नीचे बताया है :

Difference Between Occupancy Certificate and Completion Certificate / ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट और कंप्लीशन सर्टिफिकेट के बीच अंतर

यह सुनिश्चित करने के बाद कि इसमें रहने योग्य होने के लिए सभी जरूरतें हैं तो अधिकारी किसी हाउसिंग प्रोजेक्ट को कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी कर देते हैं। यानी जब प्रोजेक्ट खरीदारों के पोजेशन लायक हो जाता है तो कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी कर दिया जाता है। वहीं ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट इस बात का सबूत होता है कि निर्माण के मानकों के हिसाब से ही प्रोजेक्ट बनाया गया है। किसी प्रोजेक्ट के लिए ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट मिलने के बाद ही बिल्डर प्रोजेक्ट के लिए विभिन्न सुविधाओं के लिए अप्लाई कर सकता है।

इन्हें भी देखें :-  What is CS Full Form? CS का Full Form क्या होता है? जानें CS के बारे में जरूरी बातें…
Occupancy Certificate (ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट) Completion Certificate (कंप्लीशन सर्टिफिकेट)
इसे स्थानीय अधिकारी जारी करते हैं, जिसमें लिखा होता है कि बिल्डिंग बनाने के दौरान सारे कंस्ट्रक्शन मानकों और इमारत के उपनियमों का पालन किया गया है। यह सुनिश्चित करने के बाद कि इसमें रहने योग्य होने के लिए सभी जरूरतें हैं तो अधिकारी किसी हाउसिंग प्रोजेक्ट को कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी कर देते हैं। यानी जब प्रोजेक्ट खरीदारों के पोजेशन लायक हो जाता है तो Completion Certificate (कंप्लीशन सर्टिफिकेट) जारी कर दिया जाता है।
Occupancy Certificate (ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट) जारी होने के बाद ही बिल्डर बिजली, पानी और सैनिटाइजेशन कनेक्शन के लिए अप्लाई कर सकते है। Completion Certificate (कंप्लीशन सर्टिफिकेट) जारी होने के बाद पोजेशन मिल जाता है।

बतौर प्रॉपर्टी मालिक आपके अधिकार

अगर आपका बिल्डर ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) देने से इनकार करता है या फिर उसने प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद भी इसे लिया नहीं है तो आप बिल्डर के खिलाफ कानूनी एक्शन ले सकते हैं। कानूनी नोटिस जारी कर आप या तो ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट की मांग कर सकते हैं या फिर केस को कंज्यूमर कोर्ट भी ले जा सकते हैं।

रियल एस्टेट (रेग्युलेशन एंड डेवेलपमेंट) एक्ट (RERA) जैसे नियामक के कारण उम्मीद की जाती है कि वे डेवेलपर्स की ओर से धोखाधड़ी या लापरवाही के मामलों को कम करेंगे। हालांकि, बतौर प्रॉपर्टी मालिक आपको सावधान रहना चाहिए और सुनिश्चित करें कि ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट जैसे दस्तावेज हों और आपके प्रॉपर्टी पर अधिकार सुरक्षित रहें।

ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट का स्टेटस कैसे चेक करें?

प्रोजेक्ट का स्टेटस संबंधित राज्य की RERA वेबसाइट पर जाकर देखा जा सकता है, अगर प्रोजेक्ट इस कानून के तहत रजिस्टर्ड है तो। RERA के तहत यह अनिवार्य है कि बिल्डर्स को नियमित तौर पर प्रोजेक्ट की प्रगति की जानकारी पोर्टल पर देनी होगी। अगर यह अपडेट नहीं होती या वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है तो स्थानीय अथॉरिटी या निकाय संस्थाओं से भी इसकी पुष्टि की जा सकती है।

FAQ About OC Full Form

Q. OC की फुल फॉर्म क्या होती है? What is the Full Form of OC?

Ans : OC की Full Form Occupancy Certificate ( हिंदी में ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट / अधिभोग प्रमाणपत्र) होता है।
OC Full Form : Occupancy Certificate
OC Full Form in Hindi : ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट / अधिभोग प्रमाणपत्र

Q. Occupancy Certificate (ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट) क्या होता है?

Ans : यह एक कानूनी डॉक्यूमेंट है जो यह पुष्टि करता है कि बिल्डिंग निर्माण का कार्य नियमों के मुताबिक हुआ है। यह स्थानीय म्युनिसिपल प्रशासन द्वारा निर्माणकार्य पूरा होने के बाद और पजेशन के लिए तैयार होने के बाद जारी होता है । यह वह डॉक्यूमेंट है जिससे यह बताता है कि सभी नियमों का पालन करते हुए निर्माणकार्य पूरा हो चुका है सभी नियमों का पालन करते हुए।

Q. Home Loan में OC Copy क्या होता है?

Ans : Home Loan में OC Copy का मतलब Occupancy Certificate (ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट) होता है।
एक ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) एक डॉक्यूमेंट होता है जो यह प्रमाणित करता है कि भवन का निर्माण अनुमोदित योजना के अनुसार किया गया है और अब यह कब्जा करने के लिए तैयार है ।

इन्हें भी देखें :-  What is USPA Full Form? USPA का Full Form क्या होता है? जानें USPA के बारे में जरूरी बातें…
Q. What is a Temporary Occupancy Certificate? / टेंपरेरी ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट क्या होता है?

Ans : Temporary Occupancy Certificate रद्द हो सकता है। Temporary Occupancy Certificate किसी भी अथॉरिटी की किसी नियमावली में शुमार नहीं है। हालांकि एक ‘Partial Completion Certificate’ होता है, जो यह साबित करता है कि जैसे-जैसे टावर पूरे होते जाएं बिल्डर सुविधा प्रदान कर सकता है।
खरीदारों को यह ध्यान में रखना चाहिए कि यदि मंजूरी में योजना की उम्र पांच साल है, तो उसे जुर्माना के साथ ज्यादा से ज्यादा दो साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। एक बार टेंपरेरी ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट के साथ खरीदार द्वारा पोजेशन लेने के बाद उसे काम पूरा होने के बाद बिल्डर से परमानेंट ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट मांग लेना चाहिए।

Q. कंप्लीशन सर्टिफिकेट क्या होता है? What is Completion Certificate?

Ans : यह सुनिश्चित करने के बाद कि इसमें रहने योग्य होने के लिए सभी जरूरतें हैं तो अधिकारी किसी हाउसिंग प्रोजेक्ट को कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी कर देते हैं। यानी जब प्रोजेक्ट खरीदारों के पोजेशन लायक हो जाता है तो कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी कर दिया जाता है।

Q. ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) और कंप्लीशन सर्टिफिकेट (CC) में क्या अंतर होता है?

Ans : ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) यह बताता है कि बिल्डर ने किसी भी बिल्डिंग कानून को नहीं तोड़ा है और सभी स्टैंडर्ड्स को मानते हुए कंस्ट्रक्शन किया है। यह दस्तावेज किसी भी अपार्टमेंट या बिल्डिंग के लिए बेसिक सुविधाएं पाने के लिए जरूरी होता है। दूसरी ओर कंप्लीशन सर्टिफिकेट (CC) निर्माणकार्य पूरा होने के बाद लिया जा सकता है। इसे कानूनी ऑक्युपेशन नहीं माना जा सकता, बिल्डिंग में शिफ्ट करने के लिए ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) होना जरूरी है।

Q. क्या पानी के कनेक्शन के लिए बिल्डर्स को ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट (OC) दिखाना होगा?

Ans : हां, बिजली, पानी और सीवर कनेक्शन लेने के लिए ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट की जरूरत होती है।

Q. सोशल मीडिया में OC का क्या मतलब होता है?

Ans : सोशल मीडिया में OC का मतलब Original Content (ओरिजनल कंटेंट) होता है।
OC Full Form in Social Media : Original Content

सोशल मीडिया में ओरिजनल कंटेंट से मतलब उस कंटेंट से होता है जो क्रिएटर ने खुद बनाया है और उसे किसी अन्य क्रिएटर से कॉपी नहीं किया है।

Source : Google

इसे शेयर करें

Leave a Comment