BE Full Form? BE का मतलब क्या होता है? जानें BE के बारे में जरूरी बातें…

इसे शेयर करें

BE Full Form

दोस्तों क्या आपने कभी BE शब्द सुना है? या क्या आप जानते हैं की BE kya hai? या BE Full Form क्या होती है?

नमस्कार दोस्तों the nitin tech.com पर आप सभी का स्वागत है। क्या आप भी इंटरनेट पर BE के बारे मे (BE Full Form) ढूंढ रहे है? यदि हाँ तो आज मैं इस आर्टिकल के जरिए आपको BE kya hota hai? BE ka Full Form kya hota hai? के बारे में डिटेल में बताने जा रहा हूँ। इस पोस्ट को पढ़कर आप BE kya hai? (BE Full Form) के बारे में जान सकेंगे। 

BE kya hai? (BE Full Form)

तो दोस्तों आपको बता दें कि BE की फुल फॉर्म Bachelor of Engineering (‘बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग) होती है। इसको हिंदी में “इंजीनियरी में स्नातक” कहते है।

BE Full Form : Bachelor of Engineering

BE Full Form in Hindi : बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (इंजीनियरी में स्नातक)

BE Full Form  Bachelor of Engineering

BE: Bachelor of Engineering

 जैसा की इसके नाम से ही स्पस्ट हो रहा है की ये एक इंजीनियरिंग की degree होती हैं, Bachelor of Engineering (BE) एक Professional Degree Program होता हैं। यह इंजीनियरिंग में चार साल का स्नातक डिग्री कार्यक्रम है।

यह कोर्स भारत, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका, रूस, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, न्यूजीलैंड, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका और कई अन्य देशों के कॉलेजों द्वारा कराया जाता है।

यह डिग्री B.Tech की डिग्री के समकक्ष है और इंजीनियरिंग के बहुत से अलग अलग फील्ड में, कई IIT, NIT, राज्यों और केंद्रीय विश्वविद्यालयों और कई अन्य निजी संस्थानों द्वारा प्रदान की जाती है।

यहां आप लोग सोच रहें होंगे की BE भी इंजीनियरिंग की degree है और B.Tech भी इंजीनियरिंग की ही degree हैं। तो दोस्तों आप बिल्कुल सही सोच रहें हैं ये दोनों ही इंजीनियरिंग की degree होती है। तो यहां एक कन्फ्यूजन होता है की BE और B.Tech में क्या फर्क है? और BE और B.Tech इन दोनो में कौन सा कोर्स किया जाए?

तो दोस्तो यहां आपको बता दे की BE के कोर्स को B.Tech की डिग्री के बराबर ही माना जाता है।

BE और B.Tech में क्या अंतर होता है?

इंजीनियरिंग करने की इच्छा रखने वाले छात्रों के मन में उठने वाले सबसे महत्वपूर्ण प्रश्नों में से एक प्रश्न है – BE और B.Tech में क्या अंतर होता है?

कुछ लोगों को तो यह लगता है कि B.E तथा B.Tech एक ही कोर्स हैं बस इन दोनों का नाम ही अलग हैं परंतु मैं आपको बता दूँ की B.E तथा B.Tech एक ही कोर्स नहीं इन दोनों कोर्स में बहुत फर्क होता है। जो यहां नीचे आपको स्पष्ट हो जाएगा।

भारत में दो प्रकार के कॉलेज हैं। पहला वैसे कॉलेज जो इंजीनियरिंग समेत Art, Science, Commerce आदि विषयों में डिग्री देते हैं और आम तौर पर विश्वविद्यालय कहलाते हैं। दूसरा जो सिर्फ इंजीनियरिंग की डिग्री देते हैं और आम तौर पर इंस्टीट्यूट कहलाते हैं। 

इंजीनियरिंग के साथ अन्य डिग्रियां देने वाले विश्वविद्यालय अपने इंजीनियरिंग की डिग्री को BE (Bachelor of Engineering) का नाम देते हैं और केवल इंजीनियरिंग जैसे प्रोफेशनल कोर्स कराने वाले इंस्टीट्यूट अपने इंजीनियरिंग की डिग्री को  B.Tech (Bachelor of Technology) नाम देते हैं।

इन दोनो कोर्स के बीच कुछ प्रमुख अंतर इस प्रकार हैं:

Bachelor of Engineering (BE) Bachelor of Technology (B.Tech)
BE को नॉलेज बेस्ड कोर्स माना जाता है। B.Tech स्किल बेस्ड कोर्स माना जाता है।
BE के कोर्स में सिद्धांत पर ज्यादा जोर दिया जाता है और यह मजबूत बुनियादी बातों पर केंद्रित होता है। B.Tech के कोर्स में सैद्धांतिक पहलुओं की बजाय प्रैक्टिकल पर अधिक जोर दिया जाता है।
नॉलेज बेस्ड कोर्स होने के कारण इसमें कोर्स अपडेट तो किया जाता है लेकिन B.Tech कि तरह लगातार नहीं। प्रैक्टिकल बेस्ड कोर्स होने के कारण B.Tech में कोर्स का पाठ्यक्रम अधिक अप-टू-डेट माना जाता है।
इंटर्नशिप और औद्योगिक दौरे पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा नहीं होते हैं। इंटर्नशिप और औद्योगिक दौरे पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा होते हैं।
आमतौर पर जो संस्थान BE का कोर्स कराते हैं  वे विश्वविद्यालय कहलाते हैं और वे इसके साथ अन्य डिग्रियां (जैसे विज्ञान, कला, शिक्षा आदि) भी कराते हैं। आमतौर पर जो संस्थान B.Tech का कोर्स करवाते हैं वे इंस्टीट्यूट कहलाते हैं और वे सिर्फ इंजीनियरिंग की ही पढ़ाई कराते हैं।
कुछ लोकप्रिय कॉलेज हैं– NSIT, बिट्स– पिलानी, अन्ना यूनिवर्सिटी चेन्नई आदि कुछ लोकप्रिय कॉलेज हैं– IIT, NIT, DTU आदि

BE और B.Tech इन दोनो कोर्सेज में जहां कुछ अन्तर है वहीं इन दोनो कोर्सेज में कुछ समानताएं भी हैं जो यहां नीचे दी गई हैं

दोनों कोर्सेज के बीच की समानताएं हैं:

  • भारत में दोनों ही कोर्सेज की अवधि 4 वर्ष होती है। 
  • प्रत्येक वर्ष में 2 सेमेस्टर और 4 वर्षों में कुल 8 सेमेस्टर के साथ दोनों ही कोर्सेज सेमेस्टर पैटर्न का पालन करते हैं।
  • दोनों ही कोर्सेज का तरीका और दृष्टिकोण अलग हो सकता है लेकिन यदि हम पाठ्यक्रम की विषयवस्तु को करीब से देखें तो ये लगभग एक जैसे ही होते हैं।
  • All India Council for Technical Education (AICTE) ने स्पष्ट कर दिया है कि वह दोनों डिग्रियों को अलग नहीं मानेगी और दोनों ही को वह समान मान्यता प्रदान करती है।
  • दोनों ही डिग्रियां करने के बाद एक जैसा ही अवसर मिलता है और भविष्य बनता है।
  • अगर B.E. डिग्री किए उम्मीदवारों के लिए कोई भर्ती की अधिसूचना जारी की जाती है तो B.Tech डिग्री करने वाले उम्मीदवार भी उसमें हिस्सा लेने के पात्र होंगे और यही बात B.Tech डिग्रीधारियों के लिए जारी अधिसूचना पर भी लागू होगी।

B.E कोर्स कितने साल का होता हैं (BE Course Duration) :-

जैसा की ऊपर बताया जा चुका है की B.E कोर्स पूरे 4 साल का कोर्स होता हैं, 4 साल के इस कोर्स में कुल 8 सेमेस्टर होते हैं तथा प्रत्येक सेमेस्टर 6 माह का होता हैं। प्रत्येक सेमेस्टर के अंत में इसकी एक परीक्षा होती हैं, परीक्षा को पास करके आप अगले सेमेस्टर में जानें के योग्य हो जाते हैं।

लेकिन अलग अलग देश के अनुसार इस कोर्स की अवधि अलग अलग हो सकती है। इसकी अवधि अलग अलग देश के आधार पर 3 वर्ष से 5 वर्ष तक हो सकती है।  प्रत्येक फील्ड के B.E कोर्स का अपना विषयों का सेट होता है।

BE कोर्स के लिए योग्यता :-

दोस्तों आपको पता ही होगा की प्रत्येक कोर्स को करने के लिए एक योग्यता मांगी जाती हैं उसी प्रकार से BE के कोर्स के लिए भी कुछ योग्यताएं मांगी जाती हैं, आइये जानते हैं कि BE कोर्स को करने के लिए हमसे कोन सी योग्यताएं मांगी जाती हैं? 

BE के कोर्स को करने के लिए हमसे जो योग्यताएं मांगी जाती हैं वो निम्न प्रकार से हैं-

  • जो छात्र बीई में प्रवेश लेना चाहते हैं, उन्हें किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के विषयों में कम से कम 60% अंक के साथ 12 वीं पास होना चाहिए।
  • उसे भारत देश का नागरिक होना चाहिए।
  • उसे इंजीनियरिंग के एंट्रेंस एग्जाम को पास किया होना चाहिए।

Branches of BE

BE का कोर्स इंजिनियरिंग की अलग अलग फील्ड के हिसाब से किसी भी फील्ड में किया जा सकता है जिसे BE की शाखा (Branches) कहते हैं। 

एक छात्र अपनी रुचि के अनुसार निम्नलिखित में से किसी भी शाखा में BE की डिग्री प्राप्त कर सकता है:

  • Computer Science and Engineering
  • Electrical Engineering
  • Electronics and Telecommunication Engineering
  • Mechanical Engineering
  • Chemical Engineering
  • Aerospace Engineering
  • Civil Engineering
  • Information Technology
  • Mining Engineering
  • Textiles Engineering
  • Automotive Engineering etc

Popular BE Entrance Exams

BE में Admission लेने के लिए Students को Entrance Exam पास करना होता है। कुछ पॉपुलर BE Entrance Exam के नाम यहां नीचे दिए गए हैं : 

  • Delhi University Combined Entrance Examination (DUCEE)
  • Common Entrance Test (CET), Punjab University, Chandigarh
  • Gujarat Common Entrance Test (GUJCET)
  • Bihar Combined Entrance Competitive Examination (BCECE)
  • Goa Common Entrance Test (GCET)
  • Indian Institute of Technology Joint Entrance Examination (IIT-JEE)
  • Uttar Pradesh State Entrance Examination (UPSEE)
  • All India Engineering/Pharmacy/Architecture Entrance Examination (AIEEE)
  • Graduate Aptitude Test in Engineering (GATE)
  • Rajasthan Pre Engineering Test (REPT)

Popular BE Colleges in India

भारत में BE का कोर्स कराने वाले कुछ प्रमुख कॉलेज के नाम यहां दिए गए हैं : 

  • Indian Institute of Technology, Delhi
  • Indian Institute of Technology, Kanpur
  • Indian Institute of Technology, Guwahati
  • Indian Institute of Technology, Madras
  • Indian Institute of Technology, Kharagpur
  • Indian School of Mines, Dhanbad
  • Indian Institute of Technology, Roorkee
  • Indian Institute of Technology, Bombay (Mumbai)
  • Indian Institute of Technology, Guwahati
  • Indian Institute of Technology, Varanasi
  • Institute of Chemical Technology, Mumbai
  • International Institute of Information Technology, Hyderabad
  • Army Institute of Technology, Pune
  • Bharati Vidyapeeth Deemed University College of Engineering, Pune
  • Birla Institute of Technology and Science, Pilani

Jobs Opportunity and Salary After B.E or Carrier Option After B.E.

BE का कोर्स करने के बाद आपके पास क्या job opportunity होती है? और कितनी सैलरी मिलती है? आइये जानते है। दोस्तों जैसा की आप जानते है, BE करने के बाद छात्रों को कॉलेज से ही प्लेसमेंट आसानी से मिल जाता है, अगर किसी छात्र को किसी कारणवश प्लेसमेंट नहीं मिलता तो प्राइवेट कम्पनी में आप इंटरव्यू देकर आसानी से जॉब ले सकते हैं। 

BE करने के बाद आपको सिविल इंजिनियर, मैकेनिकल इंजिनियर, कंप्यूटर इंजिनियर की नौकरी मिलती है। शुरुआत में आपको को 15 से 20 हजार रुपए मासिक की नौकरी मिलती है और इसके बाद जब आपको काम का अनुभव हो जाता है तो सैलरी लाखों में भी पहुंच जाती है। वहीं कुछ स्टूडेंट अपनी खुद की कम्पनी भी स्टार्ट करते हैं।

BE या B.Tech किसमे करियर के लिए ज्यादा Opportunity होती है?

BE या B.Tech दोनों डिग्री के लिए नौकरी की संभावनाएं बहुत समान हैं। एक इंजीनियरिंग स्टूडेंट या तो नौकरी का ऑप्शन चुन सकता है या उच्च शिक्षा के लिए – जैसे M.Tech या ME GATE परीक्षा के माध्यम से या यहां तक कि गेट स्कोर किए के बिना भी M.Tech कर सकता है। यदि कोई भी स्टूडेंट उच्च शिक्षा के लिए आवेदन करता है, तो दोनों कोर्स समान महत्व रखते हैं। दूसरे देशों में भी दोनों डिग्रियों को एक दूसरे के समान ही माना जाता है।

BE पूरा करने के बाद, एक छात्र M.E., MBA और M.SC जैसे आगे के Course कर सकता है और या फिर M.Tech / M.S. की डिग्री के लिए भी अप्लाई कर सकता है। यदि आपके इंजीनियरिंग करने का कारण आपका जुनून और रुचि है तो निश्चित रूप से आपके लिए M.Tech या फिर M.S. एक अच्छा Career ऑप्शन हो सकता है। इसके लिए, आपको भारत के साथ-साथ विदेशों में एक अच्छे कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए गेट (GATE), जीआरई (GRE) और आईएलटीएस (IELTS) जैसी प्रवेश परीक्षाओं में अच्छे स्कोर लाने होंगे।

इंजीनियरिंग की डिग्री को दुनिया भर के प्रतिष्ठित कोर्स में एक माना जाता हैं क्यूंकि यह टेक्नोलोजी के लेटेस्ट ट्रेंड्स के विकास में मददगार साबित होती हैं। 

इंजीनियरिंग के बाद आपके पास सार्वजनिक, निजी या सरकारी क्षेत्र में नौकरी पाने की अच्छी संभावना होती है। आपको बस BE /B.Tech में कम से कम 60 प्रतिशत अंक चाहिए। जो स्टूडेंट सरकारी नौकरी में रुचि रखते हैं, उन्हें IES – भारतीय इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा देनी चाहिए जो विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी प्रदान करती है।

Other BE Full Form

तो दोस्तों ऊपर हमने आपको BE ki Full Form Bachelor of Engineering के बारे में डीटेल में जानकारी दी है लेकीन दोस्तों अलग अलग फील्ड के हिसाब से BE शब्द के कुछ और भी Full Form होते हैं वो यहां नीचे दिए गए हैं

BE Full Form in Chemistry

तो दोस्तों केमिस्ट्री की फील्ड में BE ka Full Form Beryllium होता है। 

BE Full Form in Chemistry : Beryllium

BE Full Form in Chemistry

Beryllium (बेरिलियम) एक रासायनिक तत्व होता है जिसका symbol (प्रतीक) “Be” होता है। इस तत्व का परमाणु क्रमांक 4 होता है।

BE Full Form in Budget

बजट के फील्ड में BE का फुल फॉर्म Budget Estimate होता है।

BE Full Form in Budget : Budget Estimate

BE Full Form in Budget

एक Budget Estimate (बजट अनुमान) किसी परियोजना के कार्यों में लगने वाली राशि का पूर्वानुमान होता है। जब भी किसी कार्य की योजना बनाई जाती है तो उस योजना में खर्च होने वाली राशि का पहले से ही अनुमान लगाया जाता है की किस मद के लिए कितने धन कि आवश्यकता होगी। यह अनुमान लगाना ही Budget Estimate बनाना कहलाता है।

BE Full Form in Share Market  

शेयर मार्केट के क्षेत्र में BE का फुल फार्म Book Entry होता है।

BE Full Form in Share Market : Book Entry

BE Full Form in Share Market

बुक एंट्री शेयर्स के स्वामित्व को ट्रैक करने का एक तरीका है जहां निवेशकों को भौतिक रूप से शेयर्स का प्रमाण पत्र नहीं दिया जाता है। इस तरीके में शेयर्स को कागजी रूप के बजाय इलेक्ट्रॉनिक रूप से ट्रैक किया जाता है, जिससे निवेशकों को स्वामित्व के प्रमाण के रूप में एक कागजी प्रमाण पत्र प्रस्तुत किए बिना शेयर्स का ट्रेडिंग या ट्रांसफर करने की अनुमति मिलती है।

इन्हें भी देखें :- What is ACF Full Form? ACF का मतलब क्या होता है? जानें ACF के बारे में जरुरी बातें

FAQ About BE Full Form

What is BE Full Form?

BE की फुल फॉर्म Bachelor of Engineering (‘बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग) होता है। इसको हिंदी में “इंजीनियरी में स्नातक” कहते है।
BE Full Form : Bachelor of Engineering
जैसा की इसके नाम से ही स्पस्ट हो रहा है की ये एक इंजीनियरिंग का स्नातक डिग्री कार्यक्रम होता हैं, Bachelor of Engineering (BE) एक Professional Degree Program होता हैं। यह इंजीनियरिंग में चार साल का स्नातक डिग्री कार्यक्रम है।

What is BE Full Form in Economics?
BE Full Form in Economics

BE Full Form in Economics is Bonehead Economics.

Which degree program is better in terms of job opportunities and future – B.E. or B.Tech.?

जॉब ऑपर्च्युनिटी और भविष्य के हिसाब से B.E.और B.Tech. दोनों ही डिग्रियों को समान मान्यता प्राप्त है। 
हालांकि इस मामले में आपका कॉलेज (आप जिस कॉलेज से इंजिनियरिंग कर रहे हैं) और इंजीनियरिंग की शाखा (आप जिस फील्ड में ये कोर्स कर रहे हैं) ये ज्यादा मायने रखती है।

If two colleges have equal status, then what should we prefer, B.E. or B.Tech.?

अगर छात्र रिसर्च जैसे कामों में रुचि रखता है और उच्च शिक्षा करना चाहता है तो उसे B.Tech. की जगह B.E. करना चाहिए। हालांकि दोनों कोर्सेज का पाठ्यक्रम लगभग समान है लेकिन पढ़ाई कराने का तरीका अलग-अलग हो सकता हैं।
संक्षेप में वर्तमान परिस्थितियों में B.E.और B.Tech. में कोई खास अंतर नहीं है और कोई भी डिग्री दूसरे के मुकाबले बेहतर नहीं है। कॉलेज और विषय ही है जो मायने रखता है। 
किसी भी कोर्स के लिए दाखिला लेते समय आपको उसी कॉलेज या विश्वविद्यालय को चुनना चाहिए जिसका बुनियादी ढांचा, शिक्षक, कैंपस प्लेसमेंट बेहतर हो और उनके द्वारा कराए जाने वाले कोर्स को AICTE एवं UGC से मान्यता प्राप्त हो।

B.Tech या B.E दोनों में से कौन सा कोर्स ज्यादा बेहतर है? (B.Tech or B.E. – Which Course is Better?)

B.E या B.Tech इंजीनियरिंग फील्ड की इन दोनों ही डिग्रियों का समाज में अपना-अपना महत्व है। यदि कोई छात्र हार्डवेयर के निर्माण में लगे क्षेत्र में शामिल होना चाहता है, तो उसके लिए B.E क्षेत्र अधिक उपयुक्त है। वहीं यदि कोई व्यक्ति ऐसे क्षेत्र में शामिल होना चाहता है जो हार्डवेयर को संशोधित करके अधिक कुशल या आकर्षक बनाता है, तो उनके लिए B.Tech कोर्स अधिक उपयुक्त है।
आप अपनी रुचि और अपनी भविष्य की योजनाओं के आधार पर इनमें से किसी एक क्षेत्र को चुन सकते हैं। लेकिन कुछ ऐसे कॉलेज हैं जो केवल B.E में ही डिग्री कोर्स प्रदान करते हैं और कुछ केवल B.Tech में ही डिग्री कोर्स प्रदान करते है इसलिए, एक आप अपने मनपसंद कॉलेज के आधार पर एक विशेष डिग्री का विकल्प चुन सकता है। वर्तमान में B.E या B.Tech कोई भी डिग्री एक दूसरे से श्रेष्ठ नहीं है बल्कि दोनों सामान है।

तो दोस्तों यहां इस आर्टिकल में हमने आपको BE की फुल फॉर्म (BE Full Form) के बारे में डिटेल में जानकारी दी है। उम्मीद करता हूं कि मेरे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी । आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद!

Source : Google


इसे शेयर करें

Leave a Comment

close button